किसी भी फील्ड में सफल करियर के लिए इन बातों का रखें ध्यान

किसी भी फील्ड में सफल करियर के लिए इन बातों का रखें ध्यान

जब भी लोग अपनी नई नौकरी शुरु करते है तो चाहते है कि वह नयी जॉब की तरह ही आपके नए कलीग्स और बॉस भी आपको खुले मन से अपना पाएं मतलब है नए लोग, नया ऑफ़िस और एक नयी तरह की जिदंगी । अब यह बात तो जाहिर है कि हर कोई नयी नौकरी से अपने जीवन को और भी बेहतर बनाना चाहता हैं। अगर आप भी नई नौकरी की शुरुआत कर रहे हैं तो आपको इन बातों का ध्यान रखना चाहिए ताकि आपको किसी प्रकार की कोई परेशानी का सामना ना करना पड़े।

अपना परिचय दीजिये

बिना शर्माए या यह सोचे कि आप नयें हैं, ख़ुद सामने से अपनी कलीग्स को अपना परिचय दीजिये, जान-पहचान बढ़ाइये। इस तरह किसी के मन में कोई हिचक नहीं रहेगी और काम करने में आसानी होगी।

अनुभवी व्यक्ति से दोस्ती कीजिये

हर कंपनी में कुछ लोग होते हैं जो कई सालों से वही नौकरी कर रहे होते हैं| ऐसे लोगों की दोस्ती आपको न सिर्फ़ कंपनी की सभ्यता के बारे में बताएगी बल्कि मुसीबत के वक़्त आपके काम भी आएगी।

लक्ष्य बांध लें

न सिर्फ़ अपने बॉस के साथ,बल्कि अपने नीचे काम करने वालों के साथ भी लक्ष्य निर्धारित कर लें। यह बताएगा कि आप अपने काम को लेकर कितने सीरियस हैं और जल्द से जल्द कंपनी की तरक्की में अपना योगदान देने को उत्सुक हैं।

अपनी बात पर टिकें

यह बहुत ही ज़रूरी है। इंटरव्यू देते वक़्त जो जो कहा था अपने बारे में, नौकरी शुरू करते वक़्त वो सब याद करें और पहले ही दिन से लग जाएं उसे हक़ीक़त का रूप देने में। कहीं आपके बॉस को यह न लगे कि डींगें मार के नौकरी ली है, दम बिलकुल नहीं है।

नयी आदतें डालें

पुरानी नौकरी पर आयी मुश्किलों से सीखें, अपनी कमजोरियों को पहचानें और नयी नौकरी पर नयी और बेहतर आदतों के साथ शुरुआत करें। कम से कम यहां ग़लतियां नयी होंगी तो सबक भी नए मिलेंगे।

सोशल मीडिया का इस्तेमाल

आज सोशल मीडिया का महत्व बहुत बड़ गया है इसलिए नौकरी मिलते ही ट्विटर और लिंक्डइन जैसी साइट्स को अपडेट करें और अपने कलीग्स के साथ कनेक्ट हों। इस तरह आप उन्हें और भी करीब से जान पाएँगे और उन्हें आपको जानने का मौका देंगे।

SONY का ये स्मार्टफोन मिल रहा हैं बेहद कम कीमत पर, ये हैं फीचर्स

SONY का ये स्मार्टफोन मिल रहा हैं बेहद कम कीमत पर, ये हैं फीचर्स

हम आपको SONY के एक ऐसे स्मार्टफोन के बारे में बताएंगे जिसके फीचर्स भी अच्छे हैं और कीमत भी कम हैं| जी हाँ हम बात कर रहें हैं Sony Xperia XA की| चलिए अब हम आपको इसके फीचर्स बताते हैं|

सोनी एक्सपीरिया एक्सए स्मार्टफोन में है 5.00 इंच का 720×1280 पिक्सल डिस्प्ले, ऑक्टा-कोर प्रोसेसर, 2 जीबी रैम और 13-मेगापिक्सल का रियर कैमरा।
Sony Xperia XA SPECIFICATION

→ Display – 5.00-inch
→ Processor – octa-core
→ Front Camera – 8-megapixel
→ Resolution – 720×1280 pixels
→ RAM – 2GB
→ OS – Android 6
→ Storage – 16GB
→ Rear Camera – 13-megapixel
→ Battery Capacity – 2300mAh

रेडमी 5A स्मार्टफोन को टक्कर देने के लिए लॉन्च हुआ यह स्मार्टफोन

रेडमी 5A स्मार्टफोन को टक्कर देने के लिए लॉन्च हुआ यह स्मार्टफोन

स्मार्टफोन निर्माता कम्पनी कार्बन ने अपना नया और कम कीमत वाला स्मार्टफोन भारत में पेश कर दिया है। बता दें कि इस स्मार्टफोन का नाम टाइटेनियम फ्रेम्स एस7 रखा गया है। इस फोन की प्राइस 5 हजार रुपए है।इस स्मार्टफोन के फीचर्स नीचे दिए गये हैं।

टाइटेनियम फ्रेम्स एस7 स्मार्टफोन में 5.5 इंच की फुल-एचडी आईपीएस डिस्प्ले दिया गया है। इस स्मार्टफोन के डिस्प्ले की सेफ्टी के लिए 2.5 डी कर्वड ग्लास लगाया गया है। यह स्मार्टफोन 1.45 Ghz क्वैड-कोर प्रोसेसर पर चलता है। इस फोन में 3 जीबी रैम मौजूद है। यह स्मार्टफोन अपने कीमत के कारण रेडमी 5A स्मार्टफोन को आसानी से टक्कर दे पाएगा।

इस फोन के कैमरा की बात करें तो इसमें 13 एमपी रियर कैमरा मौजूद है। सेल्फी और विडियो कॉलिंग के लिए 5 एमपी कैमरा मौजूद है। एयरटेल कंपनी इस फोन पर 2 हजार रुपए तक का कैशबैक दे रहा है। इस स्मार्टफोन का बेस कीमत 6,999 रुपए है । अगर आपको एयरटेल कैशबैक मिल जाता है तो इसकी कीमत 4,999 रुपए पड़ेगी। इस स्मार्टफोन को पावर देने के लिए 3000 mAh बैटरी लगाया गया है।

Smartphone with 4 cameras, 6GB RAM, 128GB ROM, 6200 mAh battery, Know the price

Smartphone with 4 cameras, 6GB RAM, 128GB ROM, 6200 mAh battery, Know the price

This smartphone with massive 6200 mAh battery, 6 GB RAM, 128 GB Storage, 6-inch FHD+ 18:9 Display, and 4 camera phone is launched by Vernee(A brand based in China).


Third party image reference
Display & Design:-
The Vernee X has a 6-inch 18:9 FHD+ super big screen with a resolution of 2160 x 1080. But, The size of the phone body is similar to the 5.5-inch one. The 18:9 all screen Vernee X can help you to explore more. The screen vision has enlarged 12.5%, which will give you a wider vision compared to the other 6-inch smartphone.

Vernee X is a metal-made handset. The back case of Vernee X is using 3D curve design. It looks slim and pretty from every angle. The elegant curve middle frame brings a great hand hold feeling. The front screen is using 2.5D curve glass. It has a pure visual experience. When turn on the screen, the Vernee X is very eye-catching.

RAM, Storage & Processor:-
The Vernee X is the world's first smartphone with the latest Helio P23 Octa-Core processor. Compare to the last generation, the performance has increased 10% and power consumption has decreased 15%. The Vernee X has a 6 GB big RAM and 128 GB Storage. The data can processed high efficiently. It is very fast and smooth when using multi apps or playing large games.


Third party image reference
Camera, Battery:-
Vernee X is using an amazing dual cameras for back and front. The 16 MP + 5 MP dual rear cameras have dual f/2.0 big apertures and support PDAF technology. The focusing time can be only 0.3s, clearer when shooting portraits. The 13 MP + 5 MP dual front cameras have the front flash and the updated beauty mode. The selfie will have more artistic sense.


Third party image reference
The Vernee X is applied the innovative double layers design, to reduce 50% of the PCBA area. With a number of hardware optimization, finally fit the 6200 mAh big battery in the 10mm phone body. With the power efficient processor, the Vernee X can stand by for 620 hours. It can last for 3 days on normal using. And The battery also comes with Fast Charging support.

Face ID:-
Vernee X has a fingerprint sensor for security on the rear side of smartphone. In addition, The Vernee X has added the latest face ID recognition technology with the intelligently face ID unlock arithmetic. The process of recognition will be only 0.2s. Turn on the screen and unlock the Phone.

Price of This Vernee X Smartphone is $249 dollar, Which is around ₹16,500 India Rupees.


अगर अापके घर में LPG सिलेंडर है तो इसे पढ़ लें वरना पछताएंगे

अगर अापके घर में LPG सिलेंडर है तो इसे पढ़ लें वरना पछताएंगे

रसोई गैस वर्तमान समय में सबसे जरुरी संसाधनों में से एक है। अगर रसोई गैस ना हो तो ज्यादातर परिवार खाना बनाने में असमर्थ हो सकते है।

 इसका इस्तेमाल हमें बड़ी सावधानी से करना चाहिए क्योंकि इसके जितने फायदे है उससे अधिक ये नुकसान पहुंचा सकता है। इसलिए इसका इस्तेमाल बड़ी सावधानीपूर्वक करना चाहियें। 

एलपीजी क्या है ?

एलपीजी का मतलब है तरल पेट्रोलियम गैस ( Liquid Petroleum Gas ) जो कि ब्यूटेन ( Butane ) और प्रोपेन हाइड्रोकार्बन ( Propane Hydrocarbon ) का मिश्रण है। इसके अलावा कुछ तत्व और भी इसमें होते है इनमे आइसो ब्यूटेन, ब्यूटीलीन, एन-ब्यूटेन और प्रोपीलिन आदि है। इसे भरने के लिए सिलेंडरो का इस्तेमाल किया जाता है जो दबाव अनुकूलित होते है।

एलपीजी का उपयोग :

एलपीजी को घरों में खाना बनाने के लिए किया जाता है। पहले चूल्हों पर खाना बनाया जाता था उस समय लकड़ी को ईंधन के रूप में प्रयोग किया जाता था जिससे कि बहुत परेशानी होती है। लेकिन एलपीजी के उपयोग से सारी समस्या ख़त्म हो गयी। घरों के अलावा इसका इस्तेमाल व्यवसायों संस्थानों में भी किया जाता है और विभिन्न प्रकार के औद्योगिक संस्थान भी इसका प्रयोग करते है। जिस सिलेंडर में एलपीजी गैस भरते है उसका वजन 5 किलोग्राम होता है। घरों में इस्तेमाल करने के लिए उसमे 14.2 किलोग्राम गैस भरी जाती है जिसके बाद सिलेंडर का कुल वजन 19.2 किलोग्राम हो जाता है। इसके अलावा व्यापारिक संस्थान के लिए 19 किलोग्राम से 47.5 किलोग्राम तक के सिलेंडर उपलब्ध होते है। निजी कम्पनियों द्वारा घरों में प्रयोग करने के लिए 12 किलोग्राम तक के सिलेंडर भी उपलब्ध कराये जा रहे है।

घरेलू एलपीजी का कनेक्शन लेने का तरीका :

भारत में बहुत सारी निजी कम्पनियां है जो एलपीजी के सिलेंडर उपलब्ध करवाती है। आप एल पी जी सिलिंडर का नया कनेक्शन पाने के लिए इनमे से किसी के भी अधिकृत विक्रेता से बात कर सकते है। इसके लिए जो जरुरी कागज होते है नियमों के अनुसार पुरे करके आप नया कनेक्शन ले सकते है और एलपीजी का फायदा ले सकते है।

घरेलू गैस उपलब्ध करवाने वाली कंपनियां :

इंडियन आयल कारपोरेशन लिमिटेड www.iocl.com

हिंदुस्तान पेट्रोलियम कारपोरेशन लिमिटेड hindustanpertoleum.com

भारत पेट्रोलियम कारपोरेशन लिमिटेड ebharatgas.com

एसएचवी एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड www.supergas.com

श्री शक्ति एलपीजी लिमिटेड  www.shrishakti.com

एलपीजी लगाते समय ध्यान रखें :

गैस सिलेंडर को बंद कमरे में न रखें। सिलेंडर को हमेशा खुले में या फिर ऐसे कमरे में रखे जिसमे खिड़की और दरवाजे खुले हो। सिलेंडर को जिस जगह पर रखें वहां पर इतनी जगह होने चाहिए कि प्रेशर रेगुलेटर का नॉब और रबर की ट्यूब को हिलाने में परेशानी ना हो। इसके अलावा सिलेंडर को हमेशा सीधा खड़ा रखें और उसके वाल्व को उपर की तरफ ही रखें। अगर आप इस तरह से सिलेंडर नहीं लगाते है तो इससे दुर्घटना का कारण बन सकता है। इससे एलपीजी वाल्व बाहर आ सकती है। सिलेंडर को किसी भी जगह ज़मीन के ऊपर ही लगायें इसको कहीं दबायें ना। जैसे कि पहले बताया गया है कि सिलेंडर हवादार जगह पर लगाना चाहिए अगर आप इसे कबर्ड में रखते है तो ध्यान रखें कि इसमें हवा आती जाती हो। ऐसे मेज का प्रयोग न करें जिसकी सतह लकड़ी से बनी हो। इसके अलावा सिलेंडर के पास ऐसे सामान न रखें जिनसे आग लग सकती है या शार्ट सर्किट की सम्भावना हो सकती है जैसे कि इलेक्ट्रिक ओवन और कैरोसिन स्टोव। सिलेंडर ऐसी जगह रखना चाहिए जिससे उसको धुप, बारिश, धुल व गर्मी से बचाया जा सकें। सिलेंडर खाली हो या भरा हुआ हो वाल्व को खुला न छोड़ें, साथ ही आपको सुरक्षा के लिए एक कैप लगाकर रखनी चाहिए।

उपभोक्ताओं के लिए सुरक्षा सुझाव :

एलपीजी के इस्तेमाल के लिए आप जो भी सामान खरीदते है उनपर ISI /BIS  मानक का निशान अवश्य देख लें। इनमे रबड़ ट्यूब और रेग्युलेटर पर ये मार्क अवश्य होने चाहिए। इनको बाहर से न ले सिर्फ पंजीकृत विक्रेता से ही लें। ट्यूब का इस्तेमाल केवल दो साल ही करें इसके बाद इसे बदल कर नयी ट्यूब ले लें। पुरानी ट्यूब का ज्यादा समय तक इस्तेमाल करना खतरनाक हो सकता है यह दुर्घटना का कारण बन सकती है। प्रेशर रेग्युलेटर को भी समय समय पर चेक करते रहे क्योंकि इसका काम बहुत ही महत्वपूर्ण है। यह सिलेंडर वाल्व के ऊपर लगा होता है और गैस के दबाव को नियंत्रित करता है। सिलेंडर से निकलने वाली गैस को नियंत्रित करके इसी के द्वारा स्टोव तक भेजा जाता है। गैस का प्रयोग करने के बाद रेग्युलेटर के नॉब को बंद कर देना चाहिए।

गैस सिलेंडर लेते समय ध्यान देने वाली बातें :

सिलेंडर लेते समय जाँच ले कि इस पर कंपनी की सील जरुर लगी हुई हो। इसके अलावा सेफ्टी कैप की स्थिति भी सही होनी चाहिए। अगर आपको इसके प्रयोग का पता नहीं है तो स्वयं प्रयास न करें। जो सिलेंडर की डिलीवरी वाला होता है उससे इसके इस्तेमाल की विधि को जान लें उसके बाद ही इसका इस्तेमाल करें।

गैस की गंध आये तब क्या करें :

अगर आपका सिलेंडर लीक है और उसमे से गैस निकल रही है। आपको जब भी उसकी गंध आये तो डरे नहीं सबसे पहले इसके बुरे प्रभाव से बचने के लिए बिजली की लाइन को बंद कर दें। खासकर सिलेंडर के आस पास के सारे स्विच बदं कर दें। इसके बाद जाँच लें कि रेग्युलेटर बंद है या नहीं अगर वह ऑन है तो उसे बंद कर दें। गैस लीक होने से आग लग सकती है तो ऐसी कोई काम ना करें जिससे कि आग जल जाये या कोई चिंगारी उठ जायें। माचिस की तीली या धुप अगरबती कोई जल रही होतो उसे तुरंत बुझा दें। घर से सभी दरवाजे या खिड़की खोल दें ऐसा करने से गैस एक जगह नहीं रहेगी बाहर फ़ैल जाएगी और आग लगने की सम्भावना टल जाएगी। यह सब करके गैस विक्रेता के ऑफिस में फ़ोन करके इस घटना की जानकारी दें। अगर उस दिन अवकाश हो तो इमरजेंसी सेवा केंद्र को फ़ोन कर दें। इसके बाद रेग्युलेटर को हटा दें और सिलेंडर पर सुरक्षा के लिए कैप लगा दें।

Whatsapp पर आ रहे हैं 6 शानदार फीचर्स, ग्रुप में दे सकेंगे प्रायवेट रिप्लाई

Whatsapp पर आ रहे हैं 6 शानदार फीचर्स, ग्रुप में दे सकेंगे प्रायवेट रिप्लाई

Whatsapp पर आ रहे हैं 6 शानदार फीचर्स, ग्रुप में दे सकेंगे प्रायवेट रिप्लाई

पॉपुलर इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप वॉट्सएप लगातार अपने फीचर्स अपडेट कर रहा है। हाल ही में वॉट्सएप पर नया फीचर आया था, जिसमें मैसेज सेंड करने के बाद भी डिलीट किया जा सकता है। अब एक बार फिर फेसबुक के स्वामित्व वाले व्हाट्सएप पर एंड्राइड, iOS, विंडोज फोन और वेब प्लेटफार्म के लिए 6 शानदार फीचर्स लाने की 

तैयारी है। इन फीचर्स में ग्रुप में प्रायवेट रिप्लाई से लेकर ग्रुप डिलीट करने से रोकने का अधिकार तक शामिल है। फिलहाल ये फीचर्स बीटा वर्जन पर है और इनकी टेस्टिंग की जा रही है। आइए जानते हैं इन फीचर्स के बारे में।

प्राइवेट रिप्लाइ फीचर : प्राइवेट रिप्लाइ फीचर में यूजर्स ग्रुप मैसेज में बात करते हुए भी प्राइवेट रिप्लाई कर सकेंगे। ये रिप्लाई हर यूजर को दिखाई नहीं देगा और सिर्फ उस यूजर को दिखेगा, जिसे रिप्लाई किया गया होगा।

पिक्चर-इन-पिक्चर फीचर : वॉट्सएप का ये फीचर मल्टी टास्किंग को आसान करने के लिए बनाया गया है। इस फीचर में वीडियो कॉल के दौरान ऐप में एक नया आइकन दिखेगा। इस आइकन पर टैप करने पर पिक्चर-इन-पिक्चर मोड शुरू हो जाएगा, जिसमें यूजर्स वीडियो विंडो के साइज को बदल सकेंगे और अपने हिसाब से वीडियो को मैक्सिमाइज कर सकते हैं।

अनब्लॉक फीचर : इस फीचर में यूजर्स किसी भी कॉन्टेक्ट को अनब्लॉक कर सकते हैं और मैसेज सेंड कर सकते हैं।

न्यू इनवाइट फीचर : अब वॉट्सएप पर लिंक के जरिए ग्रुप में नए यूजर्स को शामिल किया जा सकेगा। इस फीचर में ग्रुप का एडमिल नए यूजर्स को ग्रुप में शामिल होने के लिए डायरेक्ट लिंक भेज सकेगा। बता दें कि लिंक फीचर iOS ऐप पर पहले से ही उपलब्ध है और टेस्टिंग के बाद इसे जल्द ही एंड्राइड यूजर्स के लिए जारी किया जाएगा।

रिपोर्ट फीचर : वॉट्सएप पर किसी भी तरह की प्रॉब्लम आने पर आपको अपने फोन को शेक करना होगा, जिसके बाद कॉन्टेक्ट अस में यूजर्स अपनी शिकायत दर्ज कर सकेंगे।

एडमिन पावर फीचर :  इस फीचर में एडमिन किसी भी यूजर को ग्रुप डिलीट करने से रोकने की पावर देता है। इस फीचर के चलते ग्रुप को डिलीट नहीं किया जा सकेगा। फिलहाल इन सभी फीचर्स की टेस्टिंग चल रही है और अभी ये बीटा वर्जन पर उपलब्ध हैं। इन फीचर्स को जल्द ही सभी यूजर्स के लिए पेश किया जाएगा।

Updeat Whatsapp in PlayStore :Click Here

बच्चों पर वायु प्रदूषण के प्रभाव जिंदगी भर बन सकते हैं परेशानी के सबब : यूनिसेफ

बच्चों पर वायु प्रदूषण के प्रभाव जिंदगी भर बन सकते हैं परेशानी के सबब : यूनिसेफ

 यूनिसेफ की नई रिपोर्ट के मुताबिक, लगभग 1.7 करोड़ बच्चे उन क्षेत्रों में रहते हैं, जहां वायु प्रदूषण अंतरराष्ट्रीय सीमा से छह गुना अधिक होता है, जो संभावित रूप से उनके मस्तिष्क के विकास के लिए खतरनाक है क्योंकि वे एक ऐसी हवा में सांस लेते हैं जो उनके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। इन बच्चों में अधिकांश संख्या दक्षिण एशिया में है। दक्षिण एशिया में 12 लाख से अधिक बच्चे इससे पीड़ित हैं। सबसे दुखद यह है कि प्रदूषण से उन्हें जीवनभर के लिए स्वास्थ्य समस्याएं पैदा हो सकती हैं।

कई अध्ययनों से पता चला है कि वायु प्रदूषण श्वास संबंधी कई रोगों से सीधे तौर पर जुड़ा हुआ है, जिनमें निमोनिया, ब्रोंकाइटिस और अस्थमा प्रमुख हैं। यह बच्चों की रोगों से लड़ने की क्षमता को भी प्रभावित कर सकता है।

वायु प्रदूषण फेफड़े और मस्तिष्क के विकास और संज्ञानात्मक विकास को भी प्रभावित कर सकता है। अगर इलाज नहीं करवाया जाए तो वायु प्रदूषण से संबंधित कुछ स्वास्थ्य संबंधी जटिलताएं पूरी जिंदगी बनी रह सकती हैं।

बीते दौर में विभिन्न अध्ययनों से पता चलता है कि कैसे वायु प्रदूषण बच्चों में फेफड़ों की कार्यक्षमता और मस्तिष्क के विकास को बाधित कर रहा है। अंदर ली गई सांस की मात्रा सक्रियता के स्तर के अनुसार विविधिता लिए होती है और कोई गतिविधि करने, खेलते हुए या व्यायाम करते हुए बच्चे नींद में होने या आराम करते हुए समय के मुकाबले काफी अधिक सांस लेते हैं। सांस लेने के व्यवहार में यह अंतर भी कणों के मामलों में बच्चों का जोखिम बढ़ा सकता है। फेफड़े और बच्चों के मस्तिष्क साफ हवा के साथ बहुत बेहतर ढंग से विकसित हो सकते हैं।

बच्चों पर वायु प्रदूषण के प्रभावों के बारे में बोलते हुए ब्लूएयर के पश्चिम और दक्षिण एशिया क्षेत्र के निदेशक गिरीश बापट ने कहा, “वयस्कों की तुलना में बच्चे वायु प्रदूषण के आसानी से शिकार बन रहे हैं। वे अपने विकासशील फेफड़ों और इम्यून सिस्टम के चलते हवा में मौजूद विषैले तत्वों को सांस से अपने अंदर ले रहे हैं और अधिक जोखिम का शिकार बन रहे हैं। कुछ बच्चे दूसरों की तुलना में अधिक संवेदनशील होते हैं और ऐसे में वे अधिक जोखिम में हैं।”

फेफड़े की पुरानी बीमारी से पीड़ित व्यक्ति, विशेष रूप से अस्थमा पीड़ित ऐसे हालात में संभावित रूप से अधिक जोखिम में होते हैं।

निओनाटोलॉजिस्ट एवं पीडियाट्रिशयन और गुरुग्राम के मैक्स और फोर्टिस अस्पताल की विजिटिंग कंसल्टेंट डॉ. शगुना सी महाजन ने बताया, “बच्चों पर वायु प्रदूषण के प्रभाव वयस्कों पर पड़ने वाले प्रभाव से अधिक हैं, क्योंकि बच्चों का शरीर विकसित हो रहा होता है और बच्चों के फेफड़े अभी पूरी तरह से विकसित नहीं होते हैं। बच्चों पर प्रदूषण का प्रभाव तीव्र हैं और उनके शरीर पर दीर्घकालिक प्रभाव के चलते कई स्वास्थ्य समस्याएं सामने आती हैं। अब बच्चे बहुत कम उम्र में कई तरह की एलर्जी से ग्रस्त हो रहे हैं और उन्हें अपने जीवन के बाकी हिस्सों में भी इन समस्याओं का सामना करना पड़ता है।”

कणों के स्तर (पीएम) 2.5 पर होने से गंभीर स्वास्थ्य प्रभाव सामने आ सकते हैं जैसे अस्थमा, ब्रोंकाइटिस, क्रोनिक सांस के रोगों विभिन्न लक्षण, श्वास लेने में तकलीफ, श्वास लेते समय दर्द होना और कई मामलों में अचानक मौत भी हो जाती हैं क्योंकि विषैले तत्व फेफड़ों में जमा हो जाते हैं।

दमदार फीचर्स के साथ भारत में लॉन्च हुआ यह स्मार्टफोन मात्र 5,999 रुपये में

दमदार फीचर्स के साथ भारत में लॉन्च हुआ यह स्मार्टफोन मात्र 5,999 रुपये में

साथियों जिस तरह से आप सब को मालूम होगा। आये दिनों स्मार्टफोन्स मेकर कम्पनीज बढिया से बढिया स्पेशिफिकेशंस वाले कम कीमत के हैंडसेट स्मार्टफोन इंडियन मार्केट में लॉन्च कर रहे हैं। आप सब को और बता दे कि कुछ समय पहले ही में चाइना की स्मार्टफोन मेकर कंपनी शाओमी ने एक बेहतरीन मोबाइल Redmi 5A को उतार दिया है। इनकी प्राइस केवल ₹5999 रुपये रखी गयी है।

इस मोबाइल की साइज 5.5inches की FULL HD Display मौजूद है। इस फोन के पीछे की तरफ आपको लगभग 3080एमएएच की बैट्री भी उपलब्ध करवाई गई है। यह मोबाइल तकरीबन 4G LTE फीचर मिलेगा। इसके अतिरिक्त Fingerprint भी पीछे की तरफ कैमरे के नीचे मिल जायेगा। फ्रैंड्स इस मोबाइल में आपको 3 जीबी RAM से आप का स्मार्टफोन स्मूथलि चलता है। इसके अतिरिक्त 32 जीबी इंटरनल स्टोरेज मौजूद जो आपको कई तरह का डाटा संयोजन करता है। इस मोबाइल में फोटोग्राफी के लिए तकरीबन 13MP का रियर कैमरा तथा सेल्फी के लिए 5MP का सामने की फ्रंट कैमरा दिया गया है। यह स्मार्टफोन में Android Version 7.0 नौगट पर चलता है।

मरने से पहले स्टीव जॉब्स ने जो कहा उसे पढ़कर, आपका उनके प्रति सम्मान और बढ़ जाएगा

मरने से पहले स्टीव जॉब्स ने जो कहा उसे पढ़कर, आपका उनके प्रति सम्मान और बढ़ जाएगा


स्टीव जॉब्स, हां वही एप्पल वाले को कौन नहीं जानता। दुनिया की सबसे बड़ी स्मार्टफोन निर्माता ‘एप्पल’ कंपनी के संस्थापक स्टीव जॉब्स, व्यापार जगत के सबसे सफल लोगों की सूची में उनका नाम आता हैं। बिजनेस को आगे बढ़ाने के लिए लोग इन्हीं के नक्शे कदम पर चलने की कोशिश करते हैं। एप्पल कंपनी का निर्माण करने के बाद उसे बुलंदियों तक पहुंचाने वाले व्यक्ति स्टीव जॉब्स ही थे। आज भी यह कंपनी निरंतर ऊँचाइयों को छू रही है, तो इसका सबसे बड़ा श्रेय स्टीव जॉब्स को ही जाता है। क्योंकि इस कंपनी की नींव उन्होंने बहुत मजबूत कर दी थी. लेकिन क्या कभी आपने जाना है कि एप्पल कंपनी को सफल बनाने वाले स्टीव जॉब्स अपने जीवन के आखिरी लम्हों में कैसा महसूस कर रहे थे ?

ऐसा क्या था कि वो दुनिया को बताना चाहते थे. एक सफल कंपनी और बिजनेस देने वाले स्टीव जॉब्स यकीनन मरते समय गर्व से भरपूर रहे होंगे, उन्हें अपने कार्य पर गर्व हो रहा होगा। अगर आप भी ऐसा ही सोचते हैं तो जरा एक नजर उनके द्वारा शेयर की गई चिट्ठी पर भी डालें। यह आपकी सोच बदल देगी। मरने से कुछ क्षण पहले ही स्टीव जॉब्स ने एक चिट्ठी शेयर की, जिसमें उन्होंने अपनी भावनाओं को व्यक्त करने की पुरजोर कोशिश की थी। इसे पढ़ शायद आज आपकी आंखें नम हो जाएं।



मरने से पहले स्टीव जॉब्स ने जो कहा उसे पढ़कर, आपका उनके प्रति सम्मान और बढ़ जाएगा

6238

    

स्टीव जॉब्स, हां वही एप्पल वाले को कौन नहीं जानता। दुनिया की सबसे बड़ी स्मार्टफोन निर्माता ‘एप्पल’ कंपनी के संस्थापक स्टीव जॉब्स, व्यापार जगत के सबसे सफल लोगों की सूची में उनका नाम आता हैं। बिजनेस को आगे बढ़ाने के लिए लोग इन्हीं के नक्शे कदम पर चलने की कोशिश करते हैं। एप्पल कंपनी का निर्माण करने के बाद उसे बुलंदियों तक पहुंचाने वाले व्यक्ति स्टीव जॉब्स ही थे। आज भी यह कंपनी निरंतर ऊँचाइयों को छू रही है, तो इसका सबसे बड़ा श्रेय स्टीव जॉब्स को ही जाता है। क्योंकि इस कंपनी की नींव उन्होंने बहुत मजबूत कर दी थी. लेकिन क्या कभी आपने जाना है कि एप्पल कंपनी को सफल बनाने वाले स्टीव जॉब्स अपने जीवन के आखिरी लम्हों में कैसा महसूस कर रहे थे ?

ऐसा क्या था कि वो दुनिया को बताना चाहते थे. एक सफल कंपनी और बिजनेस देने वाले स्टीव जॉब्स यकीनन मरते समय गर्व से भरपूर रहे होंगे, उन्हें अपने कार्य पर गर्व हो रहा होगा। अगर आप भी ऐसा ही सोचते हैं तो जरा एक नजर उनके द्वारा शेयर की गई चिट्ठी पर भी डालें। यह आपकी सोच बदल देगी। मरने से कुछ क्षण पहले ही स्टीव जॉब्स ने एक चिट्ठी शेयर की, जिसमें उन्होंने अपनी भावनाओं को व्यक्त करने की पुरजोर कोशिश की थी। इसे पढ़ शायद आज आपकी आंखें नम हो जाएं।



उन्होंने कहा….. “एक समय था जब मैं व्यापार जगत की ऊंचाईयों को छू चुका था। लोगों की नजर में मेरी जिंदगी सफलता का एक बड़ा नमूना बन चुकी थी। लेकिन आज खुद को बेहद बीमार और इस बिस्तर पर पड़ा हुआ देखकर मैं कुछ अजीब महसूस कर रहा हूं। पूरी जिंदगी मैंने कड़ी मेहनत की, लेकिन खुद को खुश करने के लिए या खुद के लिए समय निकालना जरूरी नहीं समझा। जब मुझे कामयाबी मिली तो मुझे बेहद गर्व महसूस हुआ, लेकिन आज मौत के इतने करीब पहुंचकर वह सारी उपलब्धियां फीकी लग रही हैं। आज इस अंधेरे में, इन मशीनों से घिरा हुआ हूं। मैं मृत्यु के देवता को अपने बेहद करीब महसूस कर सकता हूं।

आज मन में एक ही बात आ रही है कि इंसान को जब यह लगने लगे कि उसने अपने भविष्य के लिए पर्याप्त कमाई कर ली है, तो उसे अपने खुद के लिए समय निकाल लेना चाहिए। और पैसा कमाने की चाहत ना रखते हुए, खुद की खुशी के लिए जीना शुरू कर देना चाहिए।

अपनी कोई पुरानी चाहत पूरी करनी चाहिए। बचपन का कोई अधूरा शौक, जवानी की कोई ख्वाहिश या फिर कुछ भी ऐसा जो दिल को तसल्ली दे सके। किसी ऐसे के साथ वक्त बिताना चाहिए जिसे आप खुशी दे सकें और बदल में उससे भी वही हासिल कर सकें। क्योंकि जो पैसा सारी जिंदगी मैंने कमाया उसे मैं साथ लेकर नहीं जा सकता। अगर मैं कुछ लेकर जा सकता हूं तो वे हैं यादें। ये यादें ही तो हमारी ‘अमीरी’ होती है, जिसके सहारे हम सुकून की मौत पा सकते हैं। क्योंकि ये यादें और उनसे जुड़ा प्यार ही एकमात्र ऐसी चीज है जो मीलों की सफर तय करके आपके साथ जा सकती हैं। आप जहां चाहे इसे लेकर जा सकते हैं। जितनी ऊंचाई पर चाहें ये आपका साथ दे सकती हैं। क्योंकि इन पर केवल आपका हक़ है।

जीवन के इस मोड़ पर आकर मैं बहुत कुछ महसूस कर सकता हूं। जीवन में अगर कोई सबसे महंगी वस्तु है, तो वह शायद ‘डेथ बेड’ ही है। क्योंकि आप पैसा फेंककर किसी को अपनी गाड़ी का ड्राइवर बना सकते हैं। जितने मर्जी नौकर-चाकर अपनी सेवा के लिए लगा सकते हैं। लेकिन इस डेथ बेड़ पर आने के बाद कोई दिल से आपको प्यार करे, आपकी सेवा करे, यह चीज आप पैसे से नहीं खरीद सकते।

आज मैं यह कह सकता हूं कि हम जीवन के किसी भी मोड़ पर क्यों ना हों, उसे अंत तक खूबसूरत बनाने के लिए हमें लोगों का सहारा चाहिए। पैसा हमें सब कुछ नहीं दे सकता।

मेरी गुजारिश है आप सबसे कि अपने परिवार से प्यार करें, उनके साथ वक्त बिताएं, इस बेशकीमती खजाने को बर्बाद ना होने दें। खुद से भी प्यार करें”।

ये थे स्टीव जॉब्स द्वारा साझा किए गए वो शब्द, जो हमें जिंदगी के सही मायने बताते हैं। उनके अनुसार पैसा जरूरी तो है, लेकिन वह हमारा जीवन नहीं है। हमें हमारे अपने लोग ही जिंदगीa देते हैं। और केवल वही हैं जो हमें चैन से मरने का अवसर भी देते हैं।